Education
उत्तरकाशी उत्‍तराखण्‍ड

Education शिक्षक हर दिन क्लास में आज के भारत का निर्माण करता: स्वामी अनुकूलानंद

उत्तरकाशी में चिन्मय विजन प्रोग्राम कार्यशाला

Education हरिद्वार के चिन्मय डिग्री कॉलेज की प्रबंध समिति द्वारा शिक्षकों के लिए तीन दिवसीय चिन्मय विजन प्रोग्राम कार्यशाला का आयोजन किया गया जिसमें शिक्षक का समाज के प्रति दायित्व क्या होना चाहिए, इस विषय पर विशेषज्ञों ने अपने विचार रखें. चिन्मय शैक्षिक समिति के अध्यक्ष कर्नल राकेश सचदेवा ने बताया कि 27 लोगों का दल उत्तरकाशी पहुंच गया है .गंगा किनारे स्थित तपोवन कुटीर के सेमिनार हॉल में शुरू हुई यह कार्यशाला गुरुवार को संपन्न होगी.उन्होंने यह भी  कहा कि कार्यशाला के अंतिम दिन प्रतिभागियों को काशी विश्वनाथ मंदिर का दर्शन और आसपास के क्षेत्रों में भ्रमण भी कराया जाएगा. Education

कार्यशाला की शुरुआत दीप प्रज्वलन  एवं रुद्राष्टकम पाठ से हुई

Education मुख्य वक्ता के रूप में सेंट्रल चिन्मय मिशन ट्रस्ट कोयंबटूर के जोनल डायरेक्टर स्वामी अनुकूलआनंद एवं अकेडमी के एडमिनिस्ट्रेटर मीणा श्री राम उपस्थित रहे .ब्रह्मचारी सनातन चौतन्य , इंटरनेशनल रेजिडेंशियल स्कूल के आध्यात्मिक गाइड ने कार्यक्रम का संचालन किया. तपोवन कुटी के परम अध्यक्ष स्वामी देवआत्मानंद ने अपने स्वागत उद्बोधन में कहा की यह स्वामी तपोवन महाराज का  जीवंत स्थान है, वह एक उच्च कोटि के हिमालय के संत थे. यहां आकर हम अपने जीवन में परिवर्तन महसूस करते हैं Educatio

चिन्मय डिग्री कॉलेज के प्राचार्य आलोक अग्रवाल ने संक्षेप में  सभी प्रतिभागियों का परिचय करवा कर, कार्यशाला के आयोजन के मुख्य उद्देश्य के साथ सबका स्वागत किया. दिन भर चलने वाली इस कार्यशाला में सुबह 9 : 00 बजे से लेकर रात के 8:30 बजे तक मूल्यों पर आधारित शिक्षा के विभिन्न पक्ष सभी प्रोफेसर और अध्यापकों को सिखाए जाएंगे मुख्य वक्ता स्वामी अनुकूल ,आनंद ने कहा कि हम जो पढ़ाते हैं वह जीवन के लिए क्यों उपयोगी है इस विषय पर अलग-अलग सत्र चलेंगे. Education

तपोवन कुटीर उत्तरकाशी में चल रहे तीन दिवसीय चिन्मय विजन प्रोग्राम के तहत आवासीय कार्यशाला मैं शिक्षकों को  छात्रों में देशभक्ति, भारतीय संस्कृति और सार्वभौमिक दृष्टिकोण का विकास करने में सहायक पद्धतियां सिखाई गई. सेंट्रल चिन्मय  मिशन ट्रस्ट के जोनल डायरेक्टर स्वामी अनुकूलानंद ने अपने वक्तव्य में कहा कि हर शिक्षक अपनी क्लास में आज के भारत का निर्माण करता है.

व्यक्ति के चरित्र निर्माण की जिम्मेदारी शिक्षक पर होती है और अगर कोई भी क्रिमिनल कोर्ट में  ट्रायल के लिए लाया जाता है तो उसके साथ उसका शिक्षक भी लाया जाना चाहिए, एक शिक्षक का इतना जिम्मेदारी का काम है. जरूर कहीं मूल्यों पर आधारित शिक्षा में कमी के कारण ही समाज में अराजक तत्व पैदा होता है. Education

यह भी पढ़े: Kedarnath Dham पैदल मार्ग पर श्रद्धालुओं के साथ मारपीट करने वाले घोड़ा खच्चर संचालकों के विरुद्ध मुकदमा हुआ दर्ज

विभिन्न सत्रों में  सीसीएमटी के एडमिनिस्ट्रेटिव डायरेक्टर मीना श्रीराम ने शिक्षकों को छात्रों में प्रयोगात्मक तरीके से बात को समझाने की तकनीक समझाई. योग साधना और जब ध्यान के साथ-साथ उन्होंने टीम भावना से कार्य करने के कुछ खेल भी कार्यशाला में करवाएं. ब्रह्मचारी सनातन चौतन्य ने बच्चों में राष्ट्रभक्ति जगाने के लिए शिक्षकों का आवाहन किया कि वे अपनी हर क्लास में कम से कम 5 मिनट जरूर देश में हो रहे नए इनोवेशन के बारे में चर्चा करें और अपने भारत की शक्तियों और कमजोरियों के बारे में अवगत कराएं.

ब्रह्मचारी सनातन चौतन्य ने कहा की वर्तमान में ह20 के अध्यक्षता भारत को सौंपी गई यह बहुत बड़ी उपलब्धि है क्योंकि और विशेषकर जम्मू और कश्मीर जैसे राज्य में इसका अधिवेशन होना एक सुखद अनुभव है.मीना श्री राम ने कहा कि युवा ही देश की दशा बदल सकते हैं और इसके लिए उनको दिशानिर्देश एक शिक्षक ही दे सकता है.

कार्यशाला में  शिक्षा में देशभक्ति का महत्व और क्लासरूम तक उसके क्रियान्वयन के बारे में विस्तार से चर्चा हुई गौरतलब है कि चीन में सेंट्रल मिशन ट्रस्ट द्वारा देशभर में 300 से ऊपर स्कूल चलाए जा रहे हैं एवं 700 गांव में ग्रामीण प्रोजेक्ट के माध्यम से हर रोज लगभग 60000 लोगों को लाभ पहुंच रहा है.  बच्चों और युवाओं में भारतीय संस्कृति और  राष्ट्रभक्ति की भावना जगाने में भी मिशन का अद्भुत योगदान है. Education

Education
Education

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published. Required fields are marked *