Ganga Putra Nigmanand
हरिद्वार उत्‍तराखण्‍ड

Ganga Putra Nigmanand गंगा पुत्र को न्याय दिलाने के लिए मातृ साधन का संघर्ष जारी रहेगा: स्वामी शिवानंद

गंगापुत्र निगमानंद की पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि सभा में लोगों ने श्रद्धांजलि अर्पित की

Ganga Putra Nigmanand हरिद्वार। गंगापुत्र निगमानंद की पुण्यतिथि पर आयोजित श्रद्धांजलि सभा में स्वामी शिवानंद ने हरिद्वार के संतों, पुरोहितों एवं आम नागरिकों पर जमकर प्रहार किया। उन्होंने कहा कि गंगापुत्र को श्रद्धांजलि देने के लिए लोगों के पास फुर्सत नहीं है। स्वामी निगमानंद ने न्याय व्यवस्था के खिलाफ अनशन करते हुए अपने प्राणों का बलिदान किया था। लेकिन उन्हें आज तक न्याय नहीं मिल सका है। मातृ सदन स्वामी निगमानंद को न्याय दिलाने के लिए प्रतिबद्ध है और इसके लिए लगातार संघर्ष करते रहेंगे। मातृ सदन आश्रम जगजीतपुर परिसर में मंगलवार को गंगापुत्र निगमानंद की पुण्यतिथि पर आयोजित श्रद्धांजलि सभा स्वामी शिवानंद ने निगमानंद की समाधि पर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी। स्वामी शिवानन्द ने संत पुरोहितों के साथ-साथ राजनीतिक लोगों को भी कहा कि यह लोग वैसे तो हरिद्वार में बहुत आते हैं लेकिन क्या इन लोगों को गंगा पुत्र की पुण्य तिथि पर आने का समय नहीं लगा। Ganga Putra Nigmanand

उन्होंने कहा निगमानंद जैसे शिष्य को पाकर उन्हें गर्व की अनुभूति हो रही है। निगमानंद शरीर से भले ही उनके साथ ना हो लेकिन उनकी यादें सदैव उनकी स्मृति पर अंकित रहेगी। स्वामी शिवानंद ने कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ स्वामी निगमानंद के आंदोलन को दबाने के लिए शासन -प्रशासन के लोगों ने उन्हें जहर देकर मार दिया। इसके खिलाफ मातृ सदन सदैव आवाज ऊठाता चला आ रहा है। लेकिन शासन प्रशासन के साथ न्याय व्यवस्था में भी भ्रष्टाचार व्याप्त होने के चलते निगमानंद को न्याय दिलाने के लिए संघर्ष जारी है। उत्तराखंड में गंगा के साथ किसानों की खेती की जमीन को भी बर्बाद किया जा रहा है। Ganga Putra Nigmanand

यह भी पढे : antarrashtriya yoga diwas अन्‍तर्राष्‍ट्रीय योग दिवस मनाये जाने को लेकर जिलाधिकारी ने ली बैठक

वहीं उत्तराखंड निर्माण के समय सरकार ने कहा था कि हरिद्वार एवं उधम सिंह नगर में खेती की जमीन की उपलब्धता के चलते उत्तराखंड में मिलाया जाना आवश्यक है ताकि उत्तराखंड के लोगों को भरपेट भोजन मिल सके। लेकिन प्रदेश सरकार खेती की जमीन को बर्बाद करने पर तुली है खनन माफियाओं के द्वारा 40 फीट से ज्यादा गहरे गड्ढे खोदकर खेतों को बर्बाद किया जा रहा है। ऐसे में मातृ सदन ने ऐलान किया है कि हरिद्वार में किसी भी सूरत में खनन को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने उत्तराखंड के सीएम धानी पूर्व कैबिनेट मंत्री स्वामी यतीश्वरानंद एवं वर्तमान डीजीपी पर भी जमकर प्रहार किया। उन्होंने कहा कि स्वामी निगमानन्द ने अपना जीवन माँ गंगा की रक्षा में लगा दिया और आज उनकी पुण्यतिथि पर किसी को समय नहीं मिला उनको याद करने के लिए यह बड़े ही दुर्भाग्य की बात है कि आज माँ गंगा पर सभी राजनेता राजनीति करते हैं लेकिन माँ गंगा को बचाने वाले के पुण्यतिथि पर आने का भी समय नहीं लगाया। Ganga Putra Nigmanand

ध्रुव चैरिटेबल ट्रस्ट हॉस्पिटल के संस्थापक बाबा बालक दास ने कहा कि संतों का जीवन परमार्थ के लिए होता है और स्वामी निगमानंद ने आमजन के कल्याण के लिए गंगा की रक्षा हेतु अपने प्राणों का बलिदान किया था। ऐसे महान संत का समाज सदैव उनका ऋणी रहेगा। भारतीय मजदूर किसान यूनियन के प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ विजेंद्र सिंह चौहान ने अपनी श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि लोगों की गंगा में आस्था कम और वास्ता ज्यादा है। इसलिए लोग लाभ के लिए गंगा का इस्तेमाल करने पर तुले हैं गंगा के बारे में किसी को चिंता नहीं है। इस मौके पर ब्रह्मचारी दयानंद, डॉक्टर निरंजन मिश्रा, ब्रह्मचारी सुधानंद, वर्षा वर्मा, कलोल राय, डॉक्टर विजय वर्मा , पंडित रामेश्वर गौर सहित अन्य गणमान्य लोगों ने अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की। इस मौके पर उप जिलाधिकारी पूरन सिंह राणा ने भी आश्रम में जाकर स्वामी निगमानंद को अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की।

Ganga Putra Nigmanand
Ganga Putra Nigmanand

1 COMMENTS

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published. Required fields are marked *