हरिद्वार उत्‍तराखण्‍ड

महिलाओं और बालिकाओं को निशुल्क दिखाई गई ‘ द केरला स्टोरी ‘

श्यामपुर /हरिद्वार! धर्म परिवर्तन और लव जिहाद के एजेंडे की पोल खोलती चर्चित फिल्म ” द केरला स्टोरी ‘ भारतीय जनता पार्टी लालढांग मंडल के बैनर तले क्षेत्र की महिलाओं और बालिकाओं को निशुल्क दिखाई गई! पूर्व कैबिनेट मंत्री स्वामी यतिस्वरानंद के सहयोग से रोशनाबाद स्थित पेंटागन मॉल के थिएटर में सुबह के शो के टिकट खरीद कर यह फिल्म निशुल्क दिखाई गई, जिसमें श्यामपुर एवं लालढांग क्षेत्र की 200 बालिकाओं एवं महिलाओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया!

फिल्म टिकट के साथ-साथ क्षेत्र की बालिकाओं और महिलाओं को थिएटर तक लाने ले जाने की व्यवस्था भी निशुल्क की गई थी! फिल्म के स्पेशल शो में बीजेपी की लालढांग मंडल अध्यक्ष सीमा चौहान एवं अनुसूचित युवा मोर्चा जिला कार्यसमिति सदस्य मुकेश सूर्या सहित लालढांग मंडल के पदाधिकारी उपस्थित रहे! इस अवसर पर मंडल अध्यक्ष सीमा चौहान ने बताया कि वर्तमान समय में अधिकांश बालिकाएं पश्चिमी सभ्यता की ओर अधिक आकर्षित होती प्रतीत हो रही है! जिसकी वजह से वे अपनी पारंपरिक मूल सभ्यता, संस्कृति और संस्कारों को भूलती चली जा रही है! ऐसे वातावरण में बालिकाओं के अंदर मूल पारिवारिक भारतीय संस्कृति के संस्कारों को जीवित बनाए रखने के उद्देश्य से द केरला स्टोरी फिल्म दिखा कर बालिकाओं और महिलाओं को जागरूक करने का काम किया है!

वहीं अनुसूचित युवा मोर्चा के जिला कार्यसमिति सदस्य मुकेश सूर्या ने बताया कि हर फिल्म की कहानी एक उद्देश्य विशेष को सामने रखकर लिखी जाती है! काल्पनिक घटनाओं के अतिरिक्त कुछ फिल्में सच्ची घटनाओं पर भी आधारित होती हैं! बालिकाओं और महिलाओं को ” द केरला स्टोरी” फिल्म को दिखाने का एक मात्र उद्देश्य देश में लगातार बढ़ रही लव जिहाद की घटनाओं के प्रति जागरूक करना है! इस फिल्म के कुछ अंश बढ़ती एंटी नेशनल घटनाओं के प्रति भी हमें जागरूक करते हैं! फिल्में समाज का आईना होती है! लव जिहाद की घटनाओं को बयान करती और उसकी वास्तविक सच्चाई को उजागर करती यह फिल्म मातृशक्ति को अधिक से अधिक देखनी चाहिए!

फिल्म देखने के बाद कक्षा 10 की छात्रा ईशिका चौहान और पलक शर्मा ने बताया कि द केरला स्टोरी देखकर उन्होंने आज भविष्य में काम आने वाला अहम सबक सीखा है! उन्होंने बताया कि लड़कियों को कैसे प्रेम जाल में फंसा कर उनका धर्म परिवर्तन कराया जा रहा है! धर्म परिवर्तन के काम में लगे लोग पहले तो लड़कियों को सुनहरे सपने दिखाते हैं, और अपना काम निकल जाने के बाद उन्हें दर-दर की ठोकरें खाने के लिए छोड़ देते हैं! बेबाक अंदाज में पलक शर्मा कहती हैं कि हमें यह सीख मिली कि स्कूल कॉलेज में मित्रता भी हमें अपने धर्म और संस्कृति के लोगों के साथ ही करनी चाहिए! किसी के भी बहकावे में नहीं आना चाहिए! लव जिहाद का झंडा चला रहे लोगों की दोस्ती या मित्रता के चक्कर में आकर अगर हम जरा से भी भटक गए तो हमें फिल्म की नायिका की तरह ही दुष्परिणामों का सामना करना पड़ सकता है! इस अवसर पर बड़ी संख्या में क्षेत्र की महिलाओं और बालिकाओं सहित भाजपा लालढांग मंडल के पदाधिकारी और कार्यकर्ता उपस्थित रहे!

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published. Required fields are marked *